La Pagina Undici (Page Eleven)

जब  हम  बिना  किसी  चीज़  के  जीते  हैं, हममें  उस  चीज़  को  पाने  की  चाहत  आती  है | यही  चाहत  हम  उस  चीज़  को  पाने  में  लगा  देते  हैं, और  पा  लेते  हैं |

मगर  सब  कुछ  इतने  आसानी  से  समझाया  नहीं  जा  सकता  है | क्योंकि, कुछ  पाने  के  लिए, कुछ  खोना  ही  पड़ता  है, इस दुनिया  की  एक  नियम | ज़मीन  हो  या  आसमान, इस  नियम  का  पालन  हर  किसी  को  करना  ही  पड़ता  है | शायद इसीलिए, हम  लोगों  में  डर  और  बेचैनी  हमेशा  दबी  रहती  है | हाँ, मैं  डरती  हूँ, अपने  आप  से  और  अपने  ही  लोगों  से, जिन्होंने  मुझे  अब  पराया  कर  दिया  है | आख़िर  मैं  हूँ  ही  कुछ  अलग, अपने  समाज  से  कोसों  दूर, और  मेरा  कभी  कुछ नहीं  रहा  है | हाथ  में  कलम  लेते  हुए, आँख  में  एक  बूँद  आंसू  के  साथ, मैं  चलती  जाती  हूँ, देखने  और  महसूस  करने  के लिए |

मेरी  यह  छोटी  सी  ज़िंदगी  एक  ऐसा  मोड़  लेने  वाली  थी  जिसकी  मैंने  कल्पना  भी  करना  बंद  कर  दिया  था |

उसकी  सोच  ही  मुझे  तोड़ने  और  बर्बाद  करने  के  लिए  काफ़ी  था |

*~*~*

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s