La Pagina Dieci (Page Ten)

After every nine, there must be a shift.

Here is that change, what you must know about this drift.

जो  हुआ, सो  हुआ| मैं  शुरू  करती  हूँ  अपनी  शुरुआत  से, जहाँ  से  मैं  आई  हूँ | एक  मासूम  सी  लड़की, जिसका  ना  कोई पता  था, ना  कोई  सुराग | कुछ  ऐसे  ही  रही  है  मेरी  ज़िंदगी, बिना  कोई  मतलब  के | मैं  शुरू  करती  हूँ  अपने  जन्म  से, जिसे  मैंने  खुद  चाहा  था | मेरी  इस  दुनिया  में  हीरों  की  कमी  नहीं  है, केवल  कांटों  की  कमी  ही  हमेशा  रही  है | जो  चाहते  हुए  भी  न  चाहें  और  जिनमे  वो  सत्ता  हो, जो  कायरता  को  ही  डरा  दे | कुछ  ऐसे  ही  बनना  चाहती  थी  मैं, उस  दिन  तक |

कुछ  लम्हें  कुछ  अजीब  से  लगते  तो  हैं, पर  उनकी  मोल  कई  वर्षों  तक  मालूम  ही  नहीं  पड़ती | ऐसे  कई  लम्हों  से  बुनी एक  ज़िंदगी  है  मेरी, और  साथ  ही  साथ  कुछ  अटूट  बंधन |

“हमारा  क्या?”

“कुछ  भी  नहीं, मेरे  पास  इस  बात  के  लिए  वक़्त  नहीं  है |”

“मेरे  लिए  भी?”

“यह  क्या  बचपाना  है?”

“मत  जाओ, छोड़के  मुझे |”

“तुम  रिहा  हो  अब, हमेशा  के  लिए |  “

था  कौन  वो? किसने  दी  थी  उसे  इजाज़त, इस  तरह  उसे  तोड़ने  की? पर, आज  मैं  जानती  हूँ, वो  राज़  जिसे  मैंने  अनदेखा कर  दिया  था |

प्यार  के  सिलसिले  हैं  नहीं  आसान, क्योंकि  जो  लोग  उसे  आज़ादी  के  लिए  अपना  लेते  हैं, वही  लोग  उसके  सदैव  गुलाम रह  जाते  हैं |

*~*~*

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s